Spiritual

क्यों जरूरी है सोमवार को भगवान शिव के 12 ऐसे ज्योतिर्लिंग जिनके दर्शन से आपके बिगड़े काम बन जाएंगे

हिन्दू धर्म के महाकाव्यों पर मंचित सिनेमा और सीरियल्स में हमने अक्सर देखा है कि जब कभी भी न्याय पर अन्याय हावी होने लगता है. जब कभी भी धर्म पर अधर्मियों का कब्ज़ा होने लगता है. जब कभी भी देवी-देवता अधर्मी राक्षसों से पराजित होने लगते हैं तब वे अपने अंतिम तारणहार महादेव के पास त्राहिमाम-त्राहिमाम करते पहुंचते हैं. और देवाधिदेव महादेव के पास सारी समस्याओं का समाधान होता है.
महादेव जिनकी गोद में सृष्टि और प्रलय दोनों खेलते हैं. जो क्रोधी कुछ ऐसे हैं कि कोई भी उनके क्रोध का सामना नहीं करना चाहता और भोले इतने कि उन्हें बम-बम भोले भंडारी कहा जाता है. प्रेमी कुछ ऐसे कि प्रेम पर सब कुछ न्योछावर करने को उतारू रहते हैं तो वहीं सब-कुछ छीन लेने की हद तक ज़िद्दी भी.
तो हम आपके समक्ष ख़ास लेकर आए हैं देवाधिदेव महादेव के कुछ ऐसे ही ज्योतिर्लिंग जिनके दर्शन मात्र से मानव की ज़िंदगी के सारे झंझावातों से छुटकारे की बात कही जाती है.

1. सोमनाथ ज्योतिर्लिंग

यह विश्वप्रसिद्ध ज्योतिर्लिंग पश्चिमी उत्तरप्रदेश के सौराष्ट्र इलाके में पड़ता है. इस मंदिर के बारे में ऐसा प्रचलित है कि इसे छ: बार ढहाया गया है और इसे छ: बार पुनर्निर्मित भी किया गया है. अंतिम बार इसका जीर्णोद्धार सन् 1947 में किया गया था.
आदि ज्योतिर्लिंग के नाम से चर्चित यह ज्योतिर्लिंग सोमेश्वर को समर्पित है जिसके माथे पर चंद्रमा विराजते हैं.

2. मल्लिकार्जुन शिवलिंग

आंध्र प्रदेश के श्रीसैलम क्षेत्र में स्थित यह मंदिर मल्लिकार्जुन स्वामी के नाम से जाना जाता है. यह ज्योतिर्लिंग कृष्णा नदी के किनारे पर स्थित है. इस मंदिर की दीवारों पर पुराने जमाने की कलाकारी देखी जा सकती है. यह मंदिर देखने में किसी किले जैसा लगता है. मगर इस ज्योतिर्लिंग के चर्चे सात समंदर पार भी सुने जाते हैं.

3. महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग

दुनिया के कुछ सबसे ही मशहूर मंदिरों और ज्योतिर्लिंग के तौर पर किसी एक का नाम लेना हो तो आप महाकालेश्वर का नाम ले सकते हैं. मध्यप्रदेश के उज्जैन शहर में रुद्र सागर झील के किनारे स्थित है यह मंदिर. इसे दक्षिणमुखी भी कहा जाता है क्योंकि यह दक्षिण की ओर मुंह किए रहता है. महाकवि कालीदास ने भी इसके गुणगान में बहुत कुछ लिखा है.

4. ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग

ओंकारेश्वर के नाम से मशहूर यह ज्योतिर्लिंग मध्य प्रदेश के महेश्वर इलाके में स्थित है. यह अति पावन स्थल नर्मदा और कावेरी के संगम स्थल को और भी परिमार्जित कर देता है. इस पवित्र धाम के नज़दीक ही नर्मदा नदी पर बनने वाला सबसे बड़ा बांध सरदार सरोवर डैम मौजूद है.

5. केदारनाथ ज्योतिर्लिंग

केदारनाथ के नाम से प्रचलित यह ज्योतिर्लिंग उत्तराखंड राज्य की आन-बान-शान है. यहां तक पहुंचने के लिए आपको गौरीकुंड होते हुए 14 किलोमीटर का पैदल रास्ता तय करना पड़ता है. इसे देश के छोटा चार धाम में शुमार किया जाता है. यह तीर्थ स्थल अप्रैल के अंत से लेकर कार्तिक पूर्णिमा के बीच सभी दर्शनार्थियों हेतु यहां रखा जाता है. सर्दियों के दौरान यहां की मूर्तियां उखीमठ ले आई जाती हैं, जहां छ: माह तक पूजा-अर्चना होती है.

6. भीमशंकर ज्योतिर्लिंग

भीमशंकर मंदिर के नाम से मशहूर यह ज्योतिर्लिंग स्थल महाराष्ट्र के पूणे शहर के नज़दीक स्थित है. भीमशंकर ज्योतिर्लिंग शहर के धूल-धक्कड़ और चिल्ल-पो से बहुत दूर बिल्कुल शांत जगह पर स्थापित है. यह ज्योतिर्लिंग पश्चिमी घाट के इलाके में पड़ता है जो उसके जीव-जंतु और पेड़-पौधों के लिए पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है. तो भैया सोच क्या रहे हैं? निकल पड़िए दर्शन और रोज की नौकरी से छुटकारा लेकर…

अगले पेज पे देखे भगवान शिव बाकी 6 ज्योतिर्लिंगस .. क्लिक करे PAGE 2 पे

1 2Next page

Related Articles