General

यह है ऐसा गाना जिसको सुनकर अब तक सैकड़ों लोग कर चुके है आत्महत्या

हमारे देश में गानों का बड़ा महत्व है। क्योंकि हमारे देश में हर मौके के हिसाब से गाने बने हुए है। हम भी अपने मूड के हिसाब से गाने सुनते है। जब हम दुखी होते है तो दर्द भरे गाने सुनते है। लेकिन क्या आपने कभी कोई ऐसा दर्द भरा गाना सुना है, जिसे सुनने के बाद अपनी जीने की इच्छा ही खत्म हो जाए? क्या कोई गाना किसी को आत्महत्या करने पर मजबूर कर सकता है? शायद इस बात पर आपको यकीन करने में दिक्कत हो लेकिन एक ऐसा गाना है जिसे सुनने के बाद सैकड़ों लोग आत्महत्या कर चुके है। यहाँ तक की इस गाने पर पूर्ण रूप से प्रतिबंध भी लगा दिया गया था।

 

 

Image: Google

 

 

दरअसल ‘ग्लूमी संडे’ नामक गाने को विश्व इतिहास का सबसे शापित गीत माना जाता है। इस गीत को सुनकर अभी तक सौ से भी अधिक लोग ख़ुदकुशी कर चुके हैं। इस गाने के सुनने के बाद लोग क्यों आत्महत्या कर लेते हैं । यभी एक रहस्य ही बना हुआ है । इस गाने को हंगरी के रहने वाले 34 वर्षीय रेज़सो सेरेस ने 1933 में लिखा था। रेज़सो सेरेस का जीवन गरीबी और सख्त दौर से गुज़रा था। वह एक लड़की से प्यार करते थे, लेकिन उस लड़की और रेज़सो सेरेस के बीच काफी विवाद भी होता था। वह लड़की सेरेस को छोड़ कर चली गयी। बाद में उस लड़की ने आत्महत्या कर ली। उसके शव के पास एक नोट मिला था, जिस पर दो ही शब्द लिखे हुए थे ‘ग्लूमी संडे’। प्रेमिका की मौत का दर्द सेरेस सह नहीं सके और उन्होंने यह दर्द भरा गाना लिखा और गाया। यह गाना बहुत प्रचलित हुआ, लेकिन इसकी प्रसिद्धि का कारण कुछ और ही था।

 

 

इस गाने से जुड़ी कई कहानियाँ हैं। इस गाने को गाने को सुनने के बाद हंगरी में एक लड़की ने छत से कूदकर वहीं एक महिला ने ज़हर खाकर आत्महत्या कर ली। ऐसे और भी दर्जनों केस सामने आए। ब्रिटेन और हंगरी में इस गाने को सुनकर कई लोगों ने आत्महत्या कर ली। इसको देखते हुए सरकार को इसे बैन करना पड़ा। कहा जाता है कि इस गीत को लिखने वाले रेज़सो सेरेस ने खुद भी आत्महत्या ही की थी। वर्ष 1968 में रेज़सो सेरेस ने एक बिल्डिंग से कूदकर आत्महत्या कर ली थी।

Related Articles