Spiritual

आज है गुरु-पुष्य योग: इस महान कार्य में इस तरह करें पूजा, जानें पूजन विधि

आज गुरु पुष्य का अत्यंत शुभ संयोग बन रहा है। इस योग में किया गया कोई भी कार्य सिद्धि प्रदान करता है। इस योग में लक्ष्मी-नारायण के ऐसे चित्र का पूजन किया जाता है जिसमें क्षीर सागर के बीच शेषनाग की शय्या पर महादेवी लक्ष्मी नारायण की सेवा में लीन हों तथा विष्णु की नाभि से कमल उत्पन्न होकर ब्रह्मा का सृजन कर रहा है।

 

नारायण अपने नीचे वाले बाएं हाथ में पद्म कमल, नीचे वाले दाएं हाथ में कौमोदकी गदा, ऊपर वाले बाएं हाथ में पाञ्चजन्य शंख व अपने ऊपर वाले दाएं हाथ में सुदर्शन चक्र धारण किए हुए हों तथा नारायण ने कौस्तुभ मणि व शार्ङ्ग धारण किए हुए हैं।

 

 

 

गुरु-पुष्य योग होने पर लक्ष्मी-नारायण का पूजन धन-धान्य की संपन्नता देता है, ऐश्वर्यवान जीवन प्रदान करता है व भाई-बहन के रिश्ते से कलह को खत्म करता है।

 

अगले पेज  में जानें पूजन विधि

 

1 2Next page

Related Articles