General

आइसोलेशन सेंटर में तबलीगी जमात की बदसलूकी नंगे होकर नाच रहे थे मेडिकल स्टाफ के सामने और थूका भी

निजामुद्दीन(Nizamuddin) स्थित तबलीगी जमात (Tablighi Jamaat) का मरकज(Markaz) पुरे देश में कोरोना का बड़ा हॉटस्पॉट बनकर उभरा है। बुधवार को दिल्ली में सामने आए 32 नए मरीजों में 29 इसी मरकज के हैं। और सबसे हैरानी की बात यह है कि यहां से निकले तबलीगी जमात (Tablighi Jamaat) के लोग पूरे देश भर में गए हैं। जिनसे कोरोना वायरस (CoronaVirus) के फैलने का खतरा बढ़ गया है। इसके अलावा दिल्ली के तुगलकाबाद आरपीएफ की बैरक और ट्रेनिंग सेंटर में 167 लोगों को आइसोलेट किया गया है। तुगलकाबाद में आइसोलेट किए गए लोगों के भी टेस्ट किए जाएंगे।
तबलीगी जमात(Tablighi Jamaat) के 167 लोगों को तुगलकाबाद स्थित रेलवे कॉलोनी क्वारंटीन सेंटर में रखा गया है इस सेंटर में आइसोलेट किए गए तबलीगी जमात के लोगों द्वारा बदसलूकी (misbehave) करने का मामला सामने आया है। मामला ये है कि तबलीगी जमात के लोग तुगलकाबाद स्थित रेलवे कॉलोनी क्वारंटीन सेंटर में मेडिकल स्टाफ(medical staff) का सहयोग नहीं कर रहे हैं और मेडिकल स्टाफ के साथ बदसलूकी के अलावा जगह-जगह पर थूक रहे हैं।

 

कुछ लोग तो मेडिकल स्टाफ के सामने नंगे हो कर नाचने भी लगे..

 

 

इंडिया टुडे की रिपोर्ट्स के मुताबिक रेलवे के सीपीआरओ दीपक कुमार ने बताया कि तबलीगी जमात के लोग तुगलकाबाद स्थित क्वारंटीन सेंटर में अपनी जांच और इलाज में डॉक्टरों का बिल्कुल भी सहयोग नहीं कर रहे हैं। बस इतना ही नहीं वहां कुछ लोग मेडिकल स्टाफ से बदसलूकी(misbehave) भी कर रहे हैं। उन्होंने कथित रूप से वहां के मेडिकल स्टाफ (medical staff) पर थूका भी है। जब जिंदगी बचाने वालो के साथ ही बदसलूकी(misbehave) करेंगे तो इस से बुरा और क्या हो सकता है।

 

 

 

हम आप को बता दे की इससे पहले दिल्ली निजामुद्दीन मरकज से जमात के सभी लोगों को वहां से बाहर निकाल लिया गया है। इसके बाद उन्हें दिल्ली में ही कई अलग-अलग अस्पताल, आइसोलेशन और क्वॉरनटाइन सेंटर में रखा गया है। दिल्ली के एलएनजेपी में करीब 185 से ज्यादा लोगों को लाया गया है, उनकी जांच रिपार्ट जल्द ही आने की आने को है।

 

 

आइसोलेशन मेंतब्लीगी जमात (ablighi jamaat) ने की बदसलूकी, डॉक्टरों और स्टाफ पर थूका

तुगलकाबाद स्थित कॉलोनी के एक निवासी ने कहा कि बस के पास खड़े बहुत से लोगों ने खांसा, छींक मारी और यहां तक कि सड़क पर थूका भी। हम कैसे सुरक्षित महसूस कर सकते हैं? रिपोर्ट्स में मुताबित रेलवे के वरिष्ठ अधिकारी मुद्दे पर पहले ही जिले के अधिकारियों से बात कर चुके हैं।

Related Articles